शुक्रवार, अप्रैल 22

ठोकरे तो मैंने भी मारी है राह पड़े कंकडो को,
कोई पत्थर उसमे भी कीमती रहा होगा.

2 टिप्‍पणियां:

SAJAN.AAWARA ने कहा…

GJAB KE VICHAR HAIN . . . , JAI HIND JAI BHARAT

gunjan jhajharia ने कहा…

dhanywaad..