शनिवार, जून 4

जियो जब तक जिन्दा हो,
न मुर्दों की तरह रहो तुम,

अर्ज किया है"गुंजन" ,
कि राह में वाले पत्थर से भी
हम तो घर बना लिया करते हैं!!!!
G.J.

कोई टिप्पणी नहीं: