शनिवार, जून 4

जानते हैं "गुंजन",
एक-टक देखने की कला में वो भी माहिर हैं,
बस उनकी नजर चुभ न जाये हमे,
तभी आजकल आँखे चुराते फिरते हैं!!!!!!!!!

G.J.

कोई टिप्पणी नहीं: