बुधवार, अगस्त 24

वक़्त का बदलता रूप तो देखो "गुंजन"
वो बात करने लायक नहीं समझते आज
जो कभी हमराह कहा करते थे!!!
----------------------G.J.

कोई टिप्पणी नहीं: