सोमवार, दिसंबर 5

उस चोट ने बचकर चलना सिखाया मुझे,
अब जब जीतती हूँ हर एक बाज़ी "गूंज"
लोग मुझे 
चालबाज़ कहने लगे हैं!

कोई टिप्पणी नहीं: