मंगलवार, नवंबर 26

कह दो अपनी सरहदों से,
रोकें ना वो मेरी रूह को।।
उसका आना तुम्हारे पास,
तय है,
सृष्टी के निर्माण के जैसे।।

कोई टिप्पणी नहीं: